Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


वाराणसी : विकास प्राधिकरणके छह लोगोंपर गिरी गाज

अतिसंवेदनशील इलाके में भूमिगत बाजारका मामला
दो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी निलम्बित, चार अभियन्ताओंके निलम्बनकी संस्तुति,मुकदमा दर्ज, जांच शुरू, शासनको भेजी रिपोर्ट
वाराणसी (का.प्र.)। शहर के अति संवेदनशील दालमंडी इलाके में भूमिगत बाजार बसाने के मामले का रहस्योद्घाटन होने के बाद प्रशासनिक अमले में हड़कम्प मच गयी है। इस मामले में वाराणसी के ज्येष्ठï पुलिस अधीक्षक श्री रामकृष्ण भारद्वाज और वाराणसी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष राजेश कुमार ने आज अलग-अलग प्रेस कांन्फे्रस करके मीडिया के समक्ष अपना पक्ष रखा और विभागों द्वारा उठाये गये कदम की जानकारी दी। वाराणसी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष ने बताया कि इस प्रकरण में दो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया है और  चार अभियंताओं के निलंबन हेतु शासन से संस्तुति की गयी है। उन्होंने बताया कि जिन आधा दर्जन लोगों ने बिना अनुमति के भूमिगत बाजार का निर्माण किया है उनके खिलाफ चौक पुलिस को तहरीर दी गयी है, जिसपर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। दूसरी ओर ज्येष्ठï पुलिस अधीक्षक ने बताया कि चूंकि चौक का इलाका अतिसंवेदनशील है और वहां से विश्वनाथ मंदिर तथा ज्ञानवापी परिसर भी काफी नजदीक है जो आतंकियों की हिटलिस्ट में है। इसलिए इस मामले को काफी गंभीरता से लिया गया है। पुलिस ने अवैध बाजार बसाने के मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है और जांच शुरु हो गयी है। इस संबंध में प्रदेश शासन को भी रिपोर्ट प्रेषित कर दी गयी है। पुलिस नगर निगम, विकास प्राधिकरण के साथ-साथ चौक थाने और खुफिया इकाईयों को जांच की जद में रख कर अपनी काररवाई   कर रही है। इस मामले में जो भी दोषी पाया जायेगा उसे किसी कीमत पर बख्शा नहीं जायेगा। चाहे वह कितना भी बड़ा रसूखदार क्यों न हो। ज्ञातव्य है कि गोपनीय सूचना के आधार पर सोमवार की देर रात्रि में ज्येष्ठï पुलिस अधीक्षक ने आकस्मिक छापा मारकर दालमण्डी इलाके में लगभग दो सौ मीटर के दायरे में अवैध रूप से बाजार बसाये जाने के  मामले का भंडाफोड़ किया था। इसके बाद से ही कई विभागों में खलबली मची हुई है। दालमण्डी वह इलाका है जो घनी बस्ती वाला क्षेत्र हैं। वहां कई तरह की अवैध गतिविधियां संचालित होती है। पूरी दालमण्डी गली में अतिक्रमण कर लिया गया है इसी अतिक्रमण की आड़ में कई भूमिगत कटरों का निर्माण करके बाजार बसां दिया गया है। चूंकि इन कटरों और अवैध बाजार के जरिये सुरंगों का निर्माण कर विश्वनाथ मंदिर को आतंकी निशाना बना सकते है। इसलिए पुलिस और प्रशासन ने इस मामले को काफी गंभीरता से लिया है। देखना यह है कि इसमें पुलिस और प्रशासन अब आगे क्या कदम उठाता है। अभीं दालमण्डी गली में अतिक्रमण के खिलाफ भी वहां के दूकानदारों और भवनस्वामियों को चेतावनी जारी की गयी है। इस  बीच पुलिस महानिरीक्षक वाराणसी परिक्षेत्र श्री दीपक रतन ने बताया कि अवैध बजार प्रकरण में जिलाधिकारी वाराणससी ने सिटी मजिस्ट्रेट को और ज्येष्ठï अधीक्षक नगर को जांच की जिम्मेदारी सौंपी है।