Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


बारूदके ढेरपर है दालमण्डी, नयी सड़क और हड़हासरायका इलाका

पुलिस और प्रशासनको कड़े कदम उठाने की जरूरत
चौक और दशाश्वमेध  इन दो थानाक्षेत्रों के बीच स्थित दालमण्डी, नयी सड़क और हड़हासराय का पूरा इलाका एक तरह से बारुद के ढेर पर हैं। पूरे इलाके में कई तरह की अवैध गतिविधियां संचालित होती है। जिसमें अवैध पटाखों का कारोबार, कैसेट की पायरेसी, चीनी उत्पादों की अवैध बिक्री, बिजली की चोरी,  के साथ व्यापारकर की बड़े पैमाने पर की जा रही चोरी भी शामिल हैं। अब घनी आबादी वाले इस क्षेत्र में भूमिगत बाजार  निर्माण का भण्डाफोड होने से यह स्पष्टï हो गया है कि इस मामले में पुलिस और प्रशासनिक कर्मचारियों एवं अधिकारियों की गहरी सांठगांठ रही है, जिससे यह कार्य संभव हो सका।  कई बार अवैध पटाखों के कारोबार के खिलाफ कई बार पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी छापे मार चुके है लेकिन उक्त कारोबार पर  रोक नहीं लग पायी है। सूत्रों का कहनाहै कि अभी भी हड़हासराय, दालमण्डी और उसके आसपास के क्षेत्र में करोड़ों रुपये के पटाखंय का अवैध रूप से भण्डारण किया गया है। कभी हादसाहुआ तो धन-जन की बड़े पैमान पर छती हो सकती है। दालमण्डी क्षेत्र में अवैध पायरेसी के खिलाफभी कई बार काररवाई हो चुकी है लेकिन इस कारोबार पर भी आज तक रोक नही लग पायी है। कैण्ट रेलवे स्टेशन से पार्सल के जरिये दिल्ली तथा अन्य स्थानों से प्रतिदिन करोड़ा का माल मंगाया जाता है। जिसमें सौन्र्दय प्रसाधन सामाग्री केसाथ-साथ रेडीमेड कपड़े, चूडिय़ां तथा अन्य सामाग्री शामिल रहती है। व्यापाकर विभागके अधिकारियों और कर्मचारियों की मिली भगत से बिना कर अदा किये यह सारा माल हड़हासराय और दालमण्डी समेत आस पास के क्षेत्रों में पहुंच जाताहै। इस कार्य में कई बिचौलियें भी सक्रिय है, जो व्यापार कर, पुलिस विभाग तथा अन्य विभागों और व्यापारियों के बीच सेतु काकार्य करते है और अवैध रकम पहुंचाते है। नई फिल्मों और एलबम की पायरेसी केजरिये नये-नये कैसेट सीडी भी   उक्तक्षेत्र के दूकानारों तक पहुंचा दिये जाते है। जिसकी पूरे पूर्वांचल में आपूर्ति की जाती है। क्षेत्र में घने विद्युत तारों का अवैध संजाल बिछा हुआ है। जिसके जरिये बिजली विभाग कोभी हर वर्ष करोड़ों का चूना लगाया जाता है। इस कार्य में विद्युत विभाग के कर्मचारी और अधिकारी भी मिले हुए है जो कुछ रकम के बदले सरकारी राजस्व को भारी नुकसान पहुंचा रहे है। अब ज्येष्ठï पुलिस अधीक्षक के छापे से भूमिगत नये बाजार के निर्माण का खुलासा हुआ है। यह गौर करने की बात है कि यदि कोई दैवीय आपदा अथवा भूकंप की स्थिति उत्पन्न हुई तो पूरे इलाके का क्या हाल होगा यह सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है।
वर्षोंसे हो रहा है अवैध निर्माण
दालमण्डी की सड़क पर पहले ट्रक गुजरने का रास्ता था लेकिन धीरे-धीरे वहां के दूकानदारों और भवन स्वामियों ने सड़क पर बढ़ कर एक के बाद एक अवैध निर्माण कर लिया। जिसके कारण उक्त सड़क गली भी नही रह गयी है। यदि दूकान की गहरायी दो फुट है तो संबंधित दूकानदार द्वारा चौकी और पटरा लगाकर उतना ही दूकान के आगे भी कब्जाकर लिया गया है। कहावत है कि  'देखीदेखा पुण्य और देखीदेखा पापÓ। दालमण्डी और उसके आसपास के इलाके में यह कहावत पूरी तरह चरितार्थ हो रही है। पहले लोगों ने नयी सड़क से चौक जाने वाली सड़क पर अतिक्रमण किया और उसके बाद एक-एक करके भूमिगत कटरों का निर्माण कर लिया। यदि एक व्यक्ति ने भूमिगत कटरा बनाया तो उसकी देखादेखी दूसरे ने भी उससे सट कर भूमिगत निर्माण कर लिया। जबकि कानून कोई बेसमेंट का निर्माण करता है तो उसके लिए बाकायदा वाराणसी विकास प्राधिकरण से नक्शा पास कराना होता है और अग्नि शमन समेत कई विभागों से अनापत्ति प्रमाण पत्र भी प्राप्त करना होता है। इतने बड़े पैमाने पर दो सौ मीटर के दायरे में भूमिगत बाजार का निर्माण हो गया और किसी भी विभाग के अधिकारी और कर्मचारी को भनक तकनही मिली यह आश्चर्य जनक और असंभव भी है। इसमें बड़े पैमाने पर भ्रष्टïाचार की बू आरही है। यदि सही तरीके से जांच हुई तो कई लोग बेनकाब हो जायेंगे।
घनी बस्तीवाले क्षेत्रमें लग चुकीहै कई बार आग
दालमण्डी और हड़हासराय घनी आबादी वाला क्षेत्र है जहां कई बार आगलगने की घटनाएं हो चुकी हैं। कभी पटाखें के गोदाम में तो कभी फाइबर और प्लास्टिक से बनी चीजों के गोदाम और दूकान में आग लग चुकी हैं। नियमत: जिस स्थान पर अग्नि शमन विभाग की गाड़ी न पहुंच सके वहां अति ज्वलनशिल अथवा विस्फोटक सामाग्री का भण्डारण अथवा उसकी बिक्री नहीं की जा सकती है। लेकिन वहां के क्षेत्र के दूकानदारों ने नियम और कानून को ताक पर रखकर बिना अनुमति अथवा अनापति प्रमाणपत्र लिये प्लास्टिक की वस्तुओं, विस्फोटक सामग्री अथवा अन्य ज्वलनशिल पदार्थों का भण्डारण भी किया है और उसकी बिक्री भी कर रहे है। कई बार आग लगने की घटनाओं से धन-जन की भारी क्षति भीहो चुकी है लेकिन उसपर पूरी तरह रोक नहीं लग पायी है।
चीनी उत्पादोंसे पटी है दालमण्डी
दालमण्डी कीपूरी गली चीनी उत्पादों से पटी हुई है। अधिकतर माल ट्रेनों के जरिये नेपाल, बंगलादेश और बिहार के रास्ते मुगलसराय पहुंचता है और वहां से कैरियर के माध्यम से दालमण्डी मेंपहुंच जाता है। चीन निर्मित रेशम के साथ-साथ घरेलू और दैनिक उपयोग में आनेवाली कोई भी ऐसी सामाग्री नही है जो चीन में बनी हो और दालमण्डी में बिक्री के लिए उपलब्ध न हो। अभीहाल ही में चाइनीज मंझे के खिलाफ प्रशासन ने बड़े पैमाने पर अभियान शुरु किया था। अब तक चाइनीज मंझे से कई लोग घायल हो चुके है और कुछ कीजान भी जा चुकीहै। जिलाधिकारी ने इसकी बिक्री पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी थी, लेकिन इसके बावजूद दालमण्डी में चाइनीज मंझे की बिक्री बर्दस्तूर जारीहै।
अतिक्रमणके कारण लगता है नियमित जाम
नयीसड़क, कपड़ामण्डी, हड़हासराय, दालमण्डी और बेनियाबाग इलाके में अतिक्रमण के कारण प्रतिदिन नियमित जाम लगता है। बेनियाबाग से लेकर कोदईचौकी मोड़ और उसके आगे तक सड़क के दोनों तरफ भारी अतिक्रमण किया गया है। इसीतरह नयी सड़क कपड़ामण्डी और उसके आगे दालमण्डी तथा चौक तक पूरी तरह अतिक्रमण करके सड़क का अस्तित्व समाप्त कर दिया गया है। बेनियाबाग के बगल से हड़हासराय के पिछले हिस्सेमें जो सड़क गुजरती है वह भीपूरी तरह अतिक्रमित है। इसके चलते प्रतिदिन पूरे इलाके में जामकी स्थिति बनी रहती है। सड़कपर रही सही कसर को ठेले और खोमचे वालों ने अतिक्रमण करके पूरा कर दिया है। पूरे इलाके में व्यापक अभियान चलाकर अतिक्रमण को ध्वस्त करने की जरुरत है अन्यथा आने वाले दिनों में स्थिति और विस्फोटक होगी था लहुराबीर, गोदौलिया के बीच गुजरना मुश्किल हो जायेगा।
मुस्लिम बहुल क्षेत्रमें अवैध निर्माणपर वी.डी.ए. उपाध्यक्ष अवाक
अधिकारियों, अभियन्ताओंको लगायी कड़ी फटकार, कईके खिलाफ काररवाईकी तैयारी
शहरके व्यस्तम मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र दालमंडीमें व्यापक पैमानेपर भूमिगत अवैध निर्माण देख विप्रा उपाध्यक्ष राजेश कुमार अवाक हो गये। इन्होंने विभागीय कार्यप्रणालीपर जोनल अधिकारी और अभियन्ताओंको फटकार लगाते हुए छ: के खिलाफ निलम्बनकी संस्तुति की है। विप्रा उपाध्यक्षने अवर अभियन्ता अनिल सिंघल, सुरेन्द्र सिंह यादव सहायक अभियन्ता अरुण कुमार सक्सेनाके निलम्बनकी संस्तुति शासन की है। इसके अलावा दशरथ प्रसाद और रामप्रताप शर्माको तत्काल प्रभावसे निलम्बित कर दिया है। अवैध निर्माणको लेकर कईपर गाज गिरानेके लिए सूची तैयार हो रही है।
विप्रा उपाध्यक्षने बताया कि दालमंडी क्षेत्रमें भवन संख्या सी.के. ६७/५-६-७ और ६७/७ए में भवन स्वामी मंसूर अहमद, शहीद अली, शमशेर आलम, अलीजान और शायराबानों एवं अन्यने लगभग ७५० वर्गमीटर क्षेत्रफलमें भूमिगत बेसमेन्ट, भूतल, प्रथम तलपर अवैध निर्माण कराया जा रहा था। इन्होंने बताया कि भवन संख्या सी.के. ६८/३६ राबिया बेगम १०० वर्गमीटर, भवन संख्या सी.के.४६/३८ तीन तलोंपर अवैध निर्माण और भवन संख्या सी.के.४६/३८ में मोहम्मद सलीमने तीन तलका निर्माण करा रहा था। मौकेपर भवन स्वामियोंसे विप्राकी अनुमति दिखानेको कहा गया। उपरोक्त भवन स्वामियोंने स्वीकृति पत्र न होनेकी जानकारी दी। उपाध्यक्षने बताया कि स्थलकी परिस्थिति एवं निर्माणाधीन भवनोंकी स्थितिके अवलोकनसे स्पष्टï है कि उक्त भवनोंमें गतिमान निर्माण महायोजना निर्माण एवं विकास उपनिविधके स्थापित नियमों प्राविधानोंके विपरित है। क्षेत्रमें तैनात अवर अभियन्ता अतुल मिश्रा, सुपरवाइजर और चपरासीने निर्माण कार्य कैसे हो रहा है, इसका जवाब नहीं दे सके। उक्त भवनोंके विरुद्ध सीलिंग काररवाईके बाद पुलिसकी अभिरक्षामें सुपुर्द कर दिया गया है। विप्रा उपाध्यक्षने स्वीकार किया कि उक्त भवनोंके नीचे हो रहा अवैध निर्माण विभागीय अभियन्ता, सुपरवाइजर और चपरासीकी संलिप्ततासे इनकारन नहीं किया जा सकता है। क्षेत्र अभियन्ता और कर्मचारियोंकी लापरवाहीसे अवैध निर्माणको बढ़ावा मिलनेके साथ विभागकी छवि धूमिल हो रही है। इसके अतिरिक्त जोनल अधिकारियोंका दैनिक पर्यवेक्षण, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों, सहायक अभियन्ता और अवर अभियन्ताने प्रवर्तन कार्यमें लापरवाही बरती है।
बीडीए, नगर निगम, चौक पुलिस और खुफिया इकाइयां जांच की जदमें
अति संवेदनशील इलाकेमें भूमिगत बाजार बसानेकी जानकारीसे प्रशासनिक अमलेमें हड़कम्प मच गया है। वहीं दूसरी तरफ नगर निगम बीडीए चौक पुलिस और खुफिया इकाइयां जांचके घेरेमें आ गयी है। भूमिगत बाजारके प्रकरणमें कोई भी अधिकारी रसूखदार और कटरा मालिक बच नहीं पायेगा।
ज्येष्ठï पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण भारद्वाजने बुधवारको रिजर्व पुलिस लाइनके संगोष्ठïी सदनमें पत्रकारों बातचीतमें यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बेनियापार्क स्थित लंगड़ा हाफिज मस्जिदके सामने लम्बे समयसे निर्माणाधीन भूमिगत बाजार बनानेसे सुरक्षाकी पोल खुल गयी है। चूंकि काशी अतिसंवेदनशील इलाकेमें बेसमेंटका निर्माण होना और नगर निगम चौक पुलिस खुफिया इकाईपर पूरी तरहसे प्रश्न चिह्नï लग गया है। जो जांचका विषय है। इस प्रकरणकी जांचके बाद सम्बन्धित विभागके अधिकारी और कर्मचारीपर कड़ी कानूनी काररवाई की जायगी। चौकाने वाली बात यह कि जमीनके नीचे हो रहे कामकी भनक किसी को नहीं मिल पायी। धार्मिक स्थलके पास कटरेके नीचेसे पूरा बाजार विकसित किया जा रहा था। जो अतिसंवेदनशील इलाका है। इस पूरे प्रकरणकी एक उच्चस्तरीय टीम जांच करेगी। जांचके बाद दोषी लोगोंपर काररवाई होना तय है। उक्त भूमिगत बाजारका निर्माणके पीछे कोई अनुमति नहीं ली गयी थी।
मण्डलायुक्त श्री नितिन रमेश गोकर्ण और पुलिस महानिरीक्षक (वाराणसी रेंज) श्री दीपक रतनने बुधवारको दालमण्डी स्थित भूमिगत बाजारकर निरीक्षण किया। निरीक्षणके दौरान अधिकारियोंने भूमिगत बाजारके आसपासके रहने वालोंका बयान लिया उनका कहना था कि अति संवेदनशील इलाकेमें भूमिगत बाजारका निर्माण होना पूरी तरहसे अवैध है। इस प्रकरणमें आईजी दीपक रतनने बताया कि मौके मुआयनाके दौरान भूमिगत बाजारमें मिले लोगों से पूछताछ की गयी है। भूमिगत बाजारके निर्माणके मामलेकी जांच जिलाधिकारीने सिटी मजिस्टे्रटको जबकि ज्येष्ठï पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण भारद्वाजने इसकी जांच पुलिस अधीक्षक (नगर) दिनेश कुमार सिंहको सौंपी है। जांच रिपोर्ट आनेके बाद ही दोषी लोगोंपर काररवाई की जायगी। मौके मुआयनाके दौरान वीडीए सचिव भी शामिल रहे।
निर्माणाधीन भवन सील
बड़ागॉव थाना क्षेत्र के सिसवां गांव में निर्माणाधीन तीन मंजीला आवासीय भवन को विकास प्राधीकरण की टीम ने पुलिस बल की मौजूदगी में सील करने की कार्यवाही किया  गया ।
बुधवार को उपरोक्त गांव के कांती देवी के नाम से स्थित भु खंड पर उनके पुत्रों अजय और ऊदल सोनकर द्वारा बीना नक्शा पास कराये ही बहुमंजिले आवासीय भवन का निर्माण कराया जा रहा था विकास प्राधीकरण वाराणसी द्वारा नोटिस दिये जाने के बाद भी निर्माण कार्य जारी रहने पर प्राधीकरण के सहायक अभियंता ए के सक्सेना एवं अवर अभियंता एच एल गुप्ता और उनकी टीम द्वारा थानाध्यक्ष बड़ागॉव अनिल सिंह एवं पुलिस बल की उपस्थिति में भवन को सील करने की कार्यवाही करते हुये नोटिस चस्पा किया गया । बताते चलें कि सिसवांए सगुनहां,  बाबतपुर, शाहपुर एचुरापुर एकविरामपुर सहित क्षेत्र के दर्जनों गांव विकास प्राधीकरण की सीमा में ले लिये जाने के कारण भवन से संबंधित किसी प्रकार का निर्माण कार्य कराये जाने से पुर्व नक्शा संस्तुति कराते हुये विकास प्राधीकरण से निर्माण का अनुमति लेना अनिवार्य है ।
अवैध निर्माणका मकान नम्बर होगा निरस्त
दालमण्डी में बिना अनुमति के हो रहे अवैध निर्माण का मकान नम्बर निरस्त किया जा सकता है। इस संबंध में नगर आयुक्त डाक्टर नितिन बंसल ने बताया कि अवैध निर्माण पर काररवाई का अधिकार विकास प्राधिकरण के पास है। जहां तक दाखिल खारिज का मामला है, इस विषय में दालमंडी से संबंधित आठ भवनों के दाखिल खारिज की पत्रावलियों को तलब किया। दाखिल खारिज प्रकरण में किसी प्रकार लापरवाही मिलने पर संबंधित अधिकारी और कर्मचारी के विरुद्ध काररवाई होगी। गौरतलब है विप्रा ने अवैध निर्माण कराने पर दालमंडी में आठ भवनों विरुद्ध सीलिंग काररवाई करते हुए भवन स्वामियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करा दी है। नगर आयुक्त ने दालमंडी प्रकरण को गंभीरता से लिया है। विप्रा सचिव विशाल सिंह ने बताया कि दालमंडी में भूमिगत अवैध निर्माण में चिन्हित आठ भवन स्वामियों के विरुद्ध थाना में प्राथमिक दर्ज करा दी गयी है। दालमंडी समेत आसपास क्षेत्र में अवैध निर्माण का स्थलीय सत्यापन और सूची तैयार करने के लिए तहसीलदार अविनाश कुमार के नेतृत्व में पांच अभियन्ताओं की टीम गठित हुई है। टीम को निर्देश दिया गया है कि तीन दिन के अन्दर जांच रिपोट्र प्रस्तुत करें। जानकारी के अनुसार विप्रा उपाध्यक्ष राजेश कुमार और सचिव ने दालमंडी और आसपास स्थलीय निरीक्षण के बाद क्षेत्र में हो रहे अवैध निर्माण को देख आवाक हो गये है। उपाध्यक्ष ने विभागीय बैठक के दौरान जोनल अधिकारियों और अभियन्ताओं को फटकार लगाते हुए निर्देश दिया कि अवैध निर्माण को लेकर विभाग की छवि धूमिल करने वालों पर काररवाई होना तय है।
अमीन संघने दिया धरना
राजस्व संग्रह अमीन से राजस्व संग्रह अधिकारी करने के साथ ही विभिन्न मांगों को लेकर बुधवार को सदर तहसील परिसर में धरना दिया। धरने के दौरान हुई सभा में अमीन संघ के जिलाध्यक्ष अशोक सिंह ने कहा कि २६ सितम्बर को अमीन संघ ने प्रमुख सचिव राजस्व से अमीनों की समस्याओं उठाया गया था। उन्होंने मांगों को पूरा करने का आश्वासन भी दिया था लेकिन किसी भी समस्याओं का समाधान न होने के कारण प्रान्तीय नेतृत्व के निर्देश पर धरना दिया जा रहा है। हमारी मांगे है कि सीजनल अमीनों को नियमित होने के पश्चात सीजनल सेवा को जोडऩे से ग्रेड पे को २००० से २८०० करने मोटर साइकिल भत्ता पूर्व की भांति प्रोन्नत करके नायब तहसील बनाया जाय। धरने में महेन्द्र प्रताप सिंह, मणिकेश श्रीवास्तव, अरविन्द कुमार सिंह, सत्येन्द्र श्रीवास्तव, सिया राम यादव, शाहिद, हरिलाल मनोज कुमार सिंह शामिल रहे।
बीएडटीइटी उत्तीर्ण अभ्यार्थी मिले प्रदेश अध्यक्ष से
बीएडटीईटी संघर्ष मोर्चा के जिलाध्यक्ष अनिल मिश्र ने अपने साथियों संजय यादव संदीप सिंह राजीव पाण्डेय अम्बरीष पाण्डेय बालकृषण तिवारी आदि के साथ सारनाथ में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री महेन्द्र नाथ पाण्डेय  से मुलाकात कर पत्रक के माध्यम से ६ वर्षो की पीड़ा से अवगत कराया। माननीय अध्यक्ष जी ने सकारात्मक काररवाइ्र का आश्वासन दिया।
मेलेको ध्यानमेंं रखकर रविदास मंदिर
का एडीएम सिटीने किया निरीक्षण
सीर गोबर्धन पुर में चल रहे रविदास मेले की तैयारियों का जायजा लेने बुधवार की दोपहर एडीएम सिटी, एसपी सिटी, एसीएम (प्रथम), सीओ भेलूपुर , लंका एसओ के साथ मौके पर पहुंच कर मेला क्षेत्र का निरीक्षण किया। उन्होंने सुरक्षा को लेकर कड़े बंदोबस्त के निर्देश दिए। मंदिर के ट्रस्टी ने बताया कि मेले में पांच लाख से ऊपर की भीड़ होगी। जिसके लिए हम लोग अपने सेवादारों को लगायेंगे। साथ ही सुरक्षा को लेकर पीएससी, महिला पुलिस, फायर कर्मी के साथ ही मेडिकल की टीम भी तैनात रहेगी। वाहनों के पार्किंग के लिए सीओ ट्रैफिक के मौजूदगी में पार्किंग पॉइंट बनेगा। जगह-जगह सड़क पर भी कैमरे लगाए जायेंगे। सेवादारों का पहला जत्था गुरुवार को जालन्धर से चल कर काशी पहुचेंगे।
जरूरतमंदोंमें कम्बल वितरित
राजेश्वरी बल्ली राय साहित्यिक शोध संस्थानकी ओरसे बुधवारको संकटमोचन मंदिरके पास स्थित कुष्ठï सेवा आश्रममें जरूरतमंद लोगोंके बीच कम्बल वितरण किया गया। इस मौकेपर डीजी वाराणसी जोन विश्वजीत माहापात्रा, अंजनी राय, हिमांशु सिंंह, संजय सिंह, राणाशेरू सिंह, राजेश मिश्र, नदीम, आकाश जायसवाल, विनय, लवकुश, सूरज पटेल, राकेश दीक्षित, मोहित राय आदि उपस्थित रहे।
लायंस आई बैंकसे मिली दो कार्निया
लायन्स आई बैंक के तत्वावधान में बुधवार को दुर्गावती देवी के मृत्यु के पश्चात उनके पुत्र की सहमति से नेत्रदान कराया। आई बैंक के सचिव डाक्टर अनुराग टण्डन ने कहा कि नेत्रदान प्रक्रिया में दो साल ेे बच्चे से प्राप्त कार्निया का प्रत्यारोपण अत्याधुनिक विधि से डाक्टर अभिषेक चन्द्रा, डाक्टर गोविन्द खलेजा, डाक्टर शिक्षा एवं डाक्टर शेखर की टीम द्वारा किया गया। नेत्रदान को सफल बनाने में समाज सेवी संस्थाओं ने बढ़-चढ़कर सहयोग दिया।
महन्तने बांटा प्रसाद
शिवपुरवा स्थित अमृत कुम्भ संस्थानम् के संचालक महन्त श्री अविमुक्तानन्द गिरी जी महाराज जूना अखाडा बैजनाथ के नेतृत्व में गरीबों को कम्बल संंग खिचडी का प्रसाद वितरित किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि गरीबों लोगों को सेवा सहयोग के लिए समाज के लोगों को आगे आना चाहिए। उन्होंने बताया कि यहां पर लोगों को नि:शुल्क संस्कृत, वेद, शास्त्र एवं योग की शिक्षा दी जा रही है। इस अवसर पर अशोक विन्द, अनिल विन्द, संकठा प्रसाद, शंकर मौर्य आदि लोग उपस्थित रहे।
लापरवाहीपर एएनएम आशाको चेतावनी
काशी विद्यापीठ ब्लाक के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का बुावार को एडिस्नल सीएमओ डाक्टर बीबी सिंह ने निरीक्षण किया। इस दौरान एएनएम, आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकत्री से डयूलिस्ट तलब की तो उपलब्ध नहीं करा सकी जिसपर सुधार न लाने पर काररवाई की चेतावनी दी। लेबररुम में बेबी वार्मर मशीन खराब होने, वार्ड एवं परिसर में गंदगी पर भी नाराजगी जतायी।
ट्रकसे गिरते ही चालकने दम तोड़ा
रामनगर । लंका रामलीला मैदान के समीप बाइपास मार्ग पर बुधवार को सायंकाल अपने ही ट्रक से गिरकर चालक की मौत हो गई ।वह भाड़ा न मिलने पर वापस ट्रक लेकर घर जा रहा था। उसकी मौत की सूचना पर उसके परिवार में कोहराम मच गया ।इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार चंदौली जनपद के अलीनगर थाना अंतर्गत चनरखा  गांव निवासी रमेश पाल ३७ वर्ष अपनी खुद की ट्रक चलाता था । जिस पर उसके साथ गांव का ही सोनू खलासी का काम करता था ।हमेशा की तरह  वह घर से दोपहर में ट्रक लेकर भाड़ा की तलाश में रामनगर पहुंचा । जहां से भाड़ा न मिलने पर वह वापस घर जा रहा था ।तभी बाईपास पर लंका रामलीला मैदान के समीप ट्रक खड़ी करके लघुशंका करने के लिए नीचे उतर रहा था ।तभी खिड़की से निकलते समय उसका हाथ छूट गया और वह सड़क पर गिर पड़ा। जिससे उसके सिर में गंभीर चोट लग गई और वह मौके पर ही दम तोड़ चुका था। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने उसके जीवित होने की आस में लाल बहादुर शास्त्री राजकीय अस्पताल पहुंचाया । जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पाकर उसके परिजन अस्पताल पहुंच गए । ट्रक चालक को दो पुत्र और एक पुत्री है। उसकी मौत से उसके परिजनों का रो.रो कर बुरा हाल था । पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
कनाडाके विद्यार्थियोंने कृषि विज्ञान संस्थानका किया भ्रमण
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान संस्थान में बुधवार को एलबरटा युनिवेर्सिटी कनाडा के विद्यार्थियों की टीम ने भ्रमण किया।  दल ने संस्थान के कृषि अर्थशास्त्र विभाग के साथ-साथ पशुपालन विभाग कृषि फार्म का अवलोकन किया। बीएचयू द्वारा कृषि के क्षेत्र में किये गये नये शोध एवं किसानों के आर्थिक उन्नति के बारे में दल के विद्यार्थियों ने चर्चा की और संस्थान में हो रहे शोध कार्य की सराहना की। इस दल के लीडर प्रोफेसर बर्गीज थे। विद्यार्थियों के टीम का स्वागत कृषि अर्थशास्त्र के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर पी.एस.बादल ने किया। इस अवसर पर संस्थान के प्रोफेसर राकेश सिंह, प्रोफेसर चन्द्र सेन, छात्र सलाहकार प्रोफेसर कल्याण घई आदि उपस्थित थे।