Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


प्रचारने पकड़ा जोर, तेज हुआ चुनावी शोर

 प्रत्याशियों में आरोप-प्रत्यारोप, जनता भी आयी साथ
नगर निकाय चुनाव का रंग अब गाढ़ा होना शुरू हो गया है। चुनावी समर में रिश्तेदार और नातेदार के साथ सभी को साथ लाकर प्रचार को तेज करने की कोशिश सभी प्रत्याशी कर रहे हैं। सुबह से रात तक प्रचार का शोर गली-मुहल्लों में सुनाई दे रहा है तो सोशल मीडिया पर भी सभी प्रत्याशियों ने अपने प्रचार में कोई कमी नहीं की है। चुनाव का समय नजदीक आने के साथ इसमें तेजी आ रही है। आरोप-प्रत्यारोप, वादाखिलाफी, घोषणाओं, आश्वासन की याद दिलायी जा रही है और प्रत्याशियों से जनता भी अपने हिसाब से जवाब मांग रही है। कुल मिलाकर सियासी समर  में आम जनता शामिल हो गयी है और इसका नजारा काफी दिलचस्प हो गया है। सीवर, पेयजल सहित अन्य मुद्दों पर सुबह से शाम तक चर्चा हो रही है। चुनाव की घड़ी नजदीक आने के साथ ही मतों को अपने पक्ष में करने के लिये सभी प्रयास भी हो रहे हैं। बैठकें, घर-घर प्रचार, गोष्ठïी सहित अन्य माध्यमों से मतों के धु्रवीकरण के लिये प्रयास हो रहे हैं। इसके बावजूद कई वार्डों में मतदाता अभी भी पशोपेश में हैं और अपना प्रत्याशी नहीं तय कर पाये हैं। क्षेत्रीय मुद्दे और संबंध पर आधारित इस चुनाव में उन्हें रिश्ते भी देखने हैं और अपना दल भी। ऐसे में उनके सामने यह किसी धर्मसंकट की ही तरह है। आश्वासन तो वह सभी को दे रहे हैं, लेकिन मत देने को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है। इस बीच चुनावी प्रचार में निकले प्रत्याशियों के सामने भी चुनौतियों का अंबार लगा हुआ है। उन्हें जनता का गुस्सा भी झेलना पड़ रहा है और कई लोगों की बेरुखी से भी वह रूबरू हो रहे हैं। इसके बावजूद सभी की बात सुनना है और उसकी समस्या को दूर करने का वह आश्वासन दे रहे हैं। सबसे ज्यादा असहज निवर्तमान पार्षदों को होना पड़ रहा है। दरअसल, शहर के कई वार्डों में पार्षदों को लेकर यह बात सामने आयी है कि चुनाव में ही वह गलियों में निकले और बीते पांच साल उन्होंने जनता और उनकी समस्याओं की घोर उपेक्षा की। अब वह माफी मांग रहे हैं, कसमें खा रहे हैं और भविष्य के प्रति आश्वस्त कर रहे हैं। लेकिन पब्लिक रहम के मूड में नहीं है और यही वजह है कि कई वार्डों में लोगों ने खुलकर विरोध किया है और प्रत्याशियों को जनता के तेवर देखकर बैरंग लौटना पड़ा है। यही हाल सोशल मीडिया का भी हो गया है। यहां चुनावी रार छिड़ गयी है और कई वार्डों के युवाओं ने तो वोटिंग के लिये फेसबुक पर पेज बना दिया है। लोगों से रुझान मांगे जा  रहे हैं और वोट की अपील की जा रही है। आरोप-प्रत्यारोप और कार्य का आकलन किया जा रहा है।
रातों-रात बढ़ रहे फालोअर
सोशल मीडिया पर चुनावी बहस तेज होने के साथ प्रत्याशियों और उनके समर्थकों के एकाउंट पर फालोअर की संख्या में भी रातों-रात इजाफा हो रहा है। क्षेत्रीय समस्या मसलन, सीवर, पेयजल, छुट्टïा पशु, जर्जर गली, सफाई, कचरा उठान से लगायत सभी मुद्दों पर खुलकर बहस हो रही है। इसका कारण और अब तक निवारण नहीं होने का कारण पूछा जा रहा है। यह भी पूछा जा रहा है कि इतनी समस्या होने के बाद जनता पार्षद को ही वोट क्यों दे? सभी के अपने तर्क हैं और पार्षद भविष्य में सबकुछ दुरुस्त करने का आश्वासन देकर वोट मांग रहे हैं।
बांट रहे चुनाव चिह्नï, अधिकारी बेखबर
बनारस में इस बार पार्षद पद के लिये शहर के विभिन्न वार्डों से थोक में निर्दल प्रत्याशी मैदान में हैं। सभी को नामांकन के बाद चुनाव चिह्नï आवंटित कर दिया गया है। किसी को त्रिशुल तो किसी को डमरू, किसी को कुछ तो किसी को कोई अच्छा चुनाव चिह्नï मिल गया है। अब चुनाव प्रचार में निकले इन प्रत्याशियों में कई प्रत्याशी ऐसे हैं, जो बड़े और संपन्न घराने से ताल्लुक रखते हैं। कोई व्यापारी तो कोई जमींदार, होटल मालिक तक है। ऐसे में सभी ने मतदाताओं को रिझाने के लिये चुनाव चिह्नï ही बांटना शुरू कर दिया है। मजे की बात यह है कि अधिकारी भी इससे बेखबर हैं और उन पर अभी तक कोई काररवाई नहीं हुई। यह धड़ल्ले से कई वार्डों में चल रहा है।
मुख्यमंत्रीके आगमनकी तैयारीमें चमकाया जा रहा पीएन कालेज
रामनगर। निकाय चुनाव में भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में आगामी २२ नवम्बर को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ यहां के प्रभु नारायण राजकीय इण्टर कालेज (पी.एन. कालेज) के मैदान में चुनावी सभा को सम्बोधित करेंगें। हालांकि अभी इसको लेकर अधिकारी भी संशय ग्रस्त है क्योंकि उनको पक्की सूचना नहीं है। इसके बावजूद यहां तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। शनिवार को पी.एन. कालेज के मैदान का पुलिस और स्थानीय अभिसूचना इकाई (एल.आई. यू.) के अधिकारियों ने निरीक्षण किया। कालेज परिसर तथा आसपास की सड़के आदि को चमकाने के काम किया जा रहा है। इस काम में सरकारी अमला लगा हुआ है। नगर पालिका परिषद से लगायत लोकनिर्माण विभाग तक सभी अमले काम को अंजाम दे रहे है। मिर्जापुर-वाराणसी मार्ग पर पैच वर्क किया जा चुका है। नगर पालिका परिषद कालेज परिसर को चमकाने के बीड़ा उठा रखा है। कालेज के आसपास से अस्थायी अतिक्रमण भी हटाये जा चुके हैं। अगर मुख्यमंत्री की सभा यहां हुयी तो १८ वर्ष बाद भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री की यहां सभा होगी। इससे पूर्व दो अक्टूबर, १९९९ को उस समय के तात्कालिक मुख्यमंत्री रामप्रकाश गुप्त की किसान जागरण यात्रा के समापन अवसर पर यहां सभा हुयी थी, जिसमे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का जमावड़ा लगा था। तब उस समय के अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री और आज मोदी सरकार के केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद थे जो रामप्रकाश गुप्त के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। उस समय जो सभा के लिए कालेज परिसर में जो पक्का मंच बनाया गया था, वह आजतक उसी तरह से खड़ा है। जिस पर अब आदित्यनाथ चढ़कर सभा को सम्बोधित करेंगे। भाजपा सरकार के द्वारा बनवाये गये मंच पर उसी सरकार का मुख्यमंत्री फिर से १८ वर्ष बाद सभा को सम्बोधित करेगा, लेकिन सभा होगी इसको लेकर कोई स्पष्ट सूचना नहीं है। अधिकारी अपनी ओर से पूरी तैयारी कर रहे है।
सपा अपराजिताको पार्टी में सहेजने और सम्भालनेमें रहीं असफल-कांग्रेस
कांग्रेस ने कहा है कि समाजवादी पार्टी जब जिला पंचायत अध्यक्ष अपराजिता सोनकर को सहेज और संभाल नहीं सकीं तो महापौर पर उसकी दावेदारी निरर्थक है। अपराजिता की कुर्सी और सम्मान बचाने में सपा की पूरी मदद कांग्रेस नेे की थी। अपराजिता ने साम्प्रदायिक सत्ता से हाथ मिलाकर जनता के साथ विश्वासघात किया है। कांग्रेस के वरिष्ठï नेता एवं पूर्व सांसद डाक्टर राजेश मिश्र और पूर्व विधायक अजय राय ने लहुराबीर स्थित अपने आवास पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताया कि शहर की जनता भाजपा से २२ वर्षों का हिसाब मांग रही है। सब कुछ ठीक था तो निवर्तमान महापौर राम गोपाल मोहले जनता सेे वोट क्यों नहीं मांग रहे हैं। कांग्रेस का मानना है किक वैचारिक निष्ठïा प्रत्याशी चुनने की मुख्य कसौटी होनी चाहिए। वर्तमान में महापौर प्रत्याशी इसी कसौटी पर खड़ी है। पार्टी ने स्वच्छ काशी, सुन्दर काशी का जो नारा दिया है। उसे पूरा करेगी। शहर को क्योटो बनाने का झूठा सपना नहीं दिखायेगी। एक प्रश्न के जवाब में पूर्व सांसद डाक्टर मिश्र ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने संसदीप क्षेत्र में चुनाव प्रचार में आयेंगे तो राहुल गांधी भी आयेेंगे। पत्रकार वार्ता के दौरान जिलाध्यक्ष प्रजानाथ शर्मा, अनिल श्रीवास्तव सहित अन्य वरिष्ठï नेता उपस्थित थे।
दबावमें आकर भाजपामें शामिल हुई अपराजिता सोनकर
प्रदेश में अपराध बढ़ा-  नरेश उत्तम
सपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं विधान परिषद सदस्य श्री नरेश उत्तम ने कहा कि वाराणसी की जिला पंचायत अध्यक्ष अपराजिता सोनकर को भाजपा का शीर्ष नेतृत्व भयभीत कर उन्हें अपने पार्टी में शामिल कराया है। साथ ही अन्य दलों के लोग भी भयवश भाजपा में शामिल हो गये। शनिवार को कैण्टोमेंट स्थित एक होटल में पत्रकारों से बातचीत करते हुए सपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा दबाव की राजनीति कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार विकास के बदले काशी का विनाश करने पर तुली है। नगर में चारों तरफ गड्ढïे एवं सड़कें क्षतिग्रस्त है। सड़कों पर सीवर का गंदा पानी बहने से आने जाने वाले राहगीरों को काफी परेशानी होती है। प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र होने पर भी यहां बुनकरों एवं किसानों को पर्याप्त बिजली नहीं मिल पा रही है। चारों तरफ दुव्र्यवस्था का बोलबाला है। श्री नरेश उत्तम ने कहा कि प्रदेश में योगी सरकार बनते ही एक जाति विशेष के लोगों की दबंगयी बढ़ गयी। लूट, हत्या बलात्मकार की घटनाओं में चौगुना बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हो रहे नगर निकाय के चुनाव में भाजपा अपने कुकर्माे के कारण बुरी तरह पराजित होगी। समाजवादी पार्टी अधिकांश जगहों पर अपना परचम लहरायेगी, क्योंकि वह सिर्फ विकास के मुद्दों पर कार्य करती है। पार्टी जनता से जो वादा करती है, उसे हर कीमत पर पूरा करती है। पत्रकार वार्ता में महापौर पद की प्रत्याशी के जिलाध्यक्ष डाक्अर पीयूष यादव, पूर्व सांसद रामकिशुन यादव, महानगर अध्यक्ष राजकुमार जायसवाल, मनोज राय धूपचण्डी, जितेन्द्र यादव आदि भी उपस्थित रहे।
सपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं विधान परिषद सदस्य श्री नरेश उत्तम ने कहा कि वाराणसी की जिला पंचायत अध्यक्ष अपराजिता सोनकर को भाजपा का शीर्ष नेतृत्व भयभीत कर उन्हें अपने पार्टी में शामिल कराया है। साथ ही अन्य दलों के लोग भी भयवश भाजपा में शामिल हो गये। शनिवार को कैण्टोमेंट स्थित एक होटल में पत्रकारों से बातचीत करते हुए सपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा दबाव की राजनीति कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार विकास के बदले काशी का विनाश करने पर तुली है। नगर में चारों तरफ गड्ढïे एवं सड़कें क्षतिग्रस्त है। सड़कों पर सीवर का गंदा पानी बहने से आने जाने वाले राहगीरों को काफी परेशानी होती है। प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र होने पर भी यहां बुनकरों एवं किसानों को पर्याप्त बिजली नहीं मिल पा रही है। चारों तरफ दुव्र्यवस्था का बोलबाला है। श्री नरेश उत्तम ने कहा कि प्रदेश में योगी सरकार बनते ही एक जाति विशेष के लोगों की दबंगयी बढ़ गयी। लूट, हत्या बलात्मकार की घटनाओं में चौगुना बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हो रहे नगर निकाय के चुनाव में भाजपा अपने कुकर्माे के कारण बुरी तरह पराजित होगी। समाजवादी पार्टी अधिकांश जगहों पर अपना परचम लहरायेगी, क्योंकि वह सिर्फ विकास के मुद्दों पर कार्य करती है। पार्टी जनता से जो वादा करती है, उसे हर कीमत पर पूरा करती है। पत्रकार वार्ता में महापौर पद की प्रत्याशी के जिलाध्यक्ष डाक्अर पीयूष यादव, पूर्व सांसद रामकिशुन यादव, महानगर अध्यक्ष राजकुमार जायसवाल, मनोज राय धूपचण्डी, जितेन्द्र यादव आदि भी उपस्थित रहे।
साहब हमारका गलती हौव...
निलंबित बीएलओ ने डीएम, बीएसए से न्याय के लिए लगा रही गुहार
मतदाता सूची में मंत्री का नाम न होने का मामला
'करे कोई भरे कोईÓ इस स्थिति का सामना इन दिनों एक महिला बीएलओं को करना पड़ रहा है। मतदाता सूची के कार्य में लगी महिला को इसलिए निलम्बित कर दिया गया  कि उसने अपने कर्तव्य का निर्वहन ठीक से नहीं किया जबकि हकीकत यह है कि जिस क्षेत्र में ड्यूटी में लापरवाही के कारण उसे निलंम्बित गया था वहां उसकी तैनाती ही नहीं थी। मामला स्थानीय मंत्री के क्षेत्र से जुड़ा होने के कारण जिला प्रशासन ने बगैर जांच पड़ताल के ही उसपर काररवाई कर दी। मजेदार बात तो यह है कि मंत्री ेे दबाव में जिला प्रशासन ने काररवाई करने में तो तनिक भी देर नहीं की लेकिन बीएलओ वहां डयूटी पर तैनाती न होने का जब सबूत पेश कर रही तो उसे प्रशासन टाल मटोल ही कर रहा है। महिला बीएलओ भुनेश्वरी अधिकारियों के यहां जाकर यही गुहार लगा रही है कि साहब हमारी वहां तैनाती ही नहीं थी फिर किस बात की सजा हमें मिली है हमार का गलती होव। चुनावी शोर में महिला शिक्षक बीएलओं की गुहार किसी को सुनाई नहीं दे रही है। ज्ञातव्य है कि सरायसर्जन क्षेत्र की मतदाता सूची में एक मंत्री और उनके परिजनों का नाम शामिल न किये जाने  पर एक सुपरवाइजर एवं बीएलओ को निलंबित कर दिया । निलंबित बीएलओ अपनी बेगुनाही की फरियाद लेकर पहले बेशिक शिक्षा अधिकारी के यहां गयी। वहां उसे बताया गया कि चूक हुई है चुनाव बाद बहाल कर दिया जायेगा। पीडि़त बीएलओ अपनी गुहार लेकर जिलाधिकारी ेे भी दरबार में गयी जिलाधिकारी ने पुन: वापस बीएसए के यहां भेज दिया। प्रशासन अपनी गलती छुपाने के लिए टालमटोल का रुख अख्तियार कर लिया है। इससे पीडि़ता की परेशानी ही बढ़ रही है।
'करे कोई भरे कोईÓ इस स्थिति का सामना इन दिनों एक महिला बीएलओं को करना पड़ रहा है। मतदाता सूची के कार्य में लगी महिला को इसलिए निलम्बित कर दिया गया  कि उसने अपने कर्तव्य का निर्वहन ठीक से नहीं किया जबकि हकीकत यह है कि जिस क्षेत्र में ड्यूटी में लापरवाही के कारण उसे निलंम्बित गया था वहां उसकी तैनाती ही नहीं थी। मामला स्थानीय मंत्री के क्षेत्र से जुड़ा होने के कारण जिला प्रशासन ने बगैर जांच पड़ताल के ही उसपर काररवाई कर दी। मजेदार बात तो यह है कि मंत्रीके दबाव में जिला प्रशासन ने काररवाई करने में तो तनिक भी देर नहीं की लेकिन बीएलओ वहां डयूटी पर तैनाती न होने का जब सबूत पेश कर रही तो उसे प्रशासन टाल मटोल ही कर रहा है। महिला बीएलओ भुनेश्वरी अधिकारियों के यहां जाकर यही गुहार लगा रही है कि साहब हमारी वहां तैनाती ही नहीं थी फिर किस बात की सजा हमें मिली है हमार का गलती होव। चुनावी शोर में महिला शिक्षक बीएलओं की गुहार किसी को सुनाई नहीं दे रही है। ज्ञातव्य है कि सरायसर्जन क्षेत्र की मतदाता सूची में एक मंत्री और उनके परिजनों का नाम शामिल न किये जाने  पर एक सुपरवाइजर एवं बीएलओ को निलंबित कर दिया । निलंबित बीएलओ अपनी बेगुनाही की फरियाद लेकर पहले बेशिक शिक्षा अधिकारी के यहां गयी। वहां उसे बताया गया कि चूक हुई है चुनाव बाद बहाल कर दिया जायेगा। पीडि़त बीएलओ अपनी गुहार लेकर जिलाधिकारीके भी दरबार में गयी जिलाधिकारी ने पुन: वापस बीएसए के यहां भेज दिया। प्रशासन अपनी गलती छुपाने के लिए टालमटोल का रुख अख्तियार कर लिया है। इससे पीडि़ता की परेशानी ही बढ़ रही है।
मतदानके ४८ घंटे पूर्व बन्द होगी शराबकी दूकान
जिलाधिकारी श्री योगेश्वर राम मिश्र ने २६ नवम्बर को निकाय चुनाव के लिए होने वाले मतदान के ४८ घंटे पूर्व जिले में शराब की सभी दुकानों को बन्द रखने का निर्देश दिया है। यह आदेश देशी, विदेशी, बियर, भांग की दुकानों पर लागू होगा। बन्दी २४ नवम्बर को सायं पांच बजे शाम से होगी।
अपराधियोंका खेल, जेल प्रशासन फेल
जिला कारागार में शनिवार को बैरकों की चेकिंग के दौरान एक कैदी के पास बीना सीम के मोबाइल मिलने से हड़कम्प मच गया। उक्त कैदी भेलूपुर का निवासी है तथा उसके खिलाफ ३०२ और गैंगस्टर के तहत पुलिस द्वारा काररवाई पूर्व में की जा चुकी है। मोबाइल की सूचना वरिष्ठï बन्दी रक्षक पारसनाथ मिश्र ने जेलर पवन कुमार त्रिवेदी को दी। जिसपर उन्होंने कैण्ट थाने में उक्त कैदी के खिलाफ तहरीर दे दी है। कैदी बैरक संख्या एक में निरुद्ध था। सूत्रों का कहना है कि जेल में बन्द अन्य कैदी भी इन दिनों धड़ल्ले से मोबाइल फोन का उपयोग कर रहे है। जेल में जो जैमर लगा हुआ है। वह टू-जी होने के चलते फोर-जी मोबाइलों पर काम नही करता जिससे जेल में बन्द कैदी आपराधिक घटनाओं को अक्सर अन्जाम देने में कामयाब हो जतो है।
काशी स्टेशनसे मोबाइल चोर बंदी
काशी स्टेशन जीआरपी चौकी की पुलिस ने शनिवार को चेकिंग के दौरान मोबाइल चोर को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से चोरी का मोबाइल, १२५ ग्राम नशीला पाउडर बरामद की। पकड़ा गया रमजान जैतपुरा थाना क्षेत्र के शैलपुत्री का निवासी है।
जिला बदर गिरफ्तार
जिला बदर के बाद अपने घर मिलने पर जैतपुरा पुलिस ने शनिवार को ढेलवरिया से गिरफ्तार कर लिया। पकड़ा गया रवि जैतपुरा का निवासी है।
अज्ञात वाहनकी चपेटमें आनेसे युवककी मौत
जंसा थाना क्षेत्र के  स्थित बेदुआ गांव के समीप आज बीती रात अज्ञात वाहन के चपेट में आने से एक व्यक्ति की मौत हो गई। बताया जाता है की करधना गांव निवासी रजनीश कुमार सिंह उर्फ पंकज ३६ वर्ष हिन्दुस्तान लीवर कम्पनी वाराणसी में काम करता था। वह नित्य के भांति बीती रात काम खत्म कर वापस घर लौट रहा था कि जैसे ही वह बेदुआ गांव के पास पहुंचा ही था कि जंसा के तरफ से आ रही तेज रफ्तार अज्ञात पिकअप वाहन ने ओवर टेक के दौरान रजनीश के मोटर साइकिल मे जोरदार टक्कर मारते हुये कपसेठी की तरफ भाग निकला। टक्कर लगते ही रजनीश की बाइक अनियंत्रित होकर सड़क किनारे गड्ढïे में जा गिरी। टक्कर के दौरान रजनीश गम्भीर रुप से घायल हो गया और सड़क किनारे गड्ढïे में गिरते ही बेहोश हो गया। रात्रि का समय होने से आवागमन कम था जिसके कारण तत्काल घटना की सूचना किसी को नही हुई। जब समय से रजनीश घर नही पहुंचा तो उसकी पत्नी जूली ने अपने पति के मोबाइल पर फोन लगाना शुरू किया। काफी समय तक फोन लगाकर पत्नी थक गयी पर फोन नही उठ सका। आधे घंटे बाद जब पत्नी ने दोबारा फोन किया तो एक राहगीर ने रजनीश का फोन उठा करके बताया कि जिस आदमी को आप फोन की है उनका बेदुआ मे ऐक्सिडेंट हो गया है वह बेहोश है। इतना सुनते ही परिवार मे कोहराम मच गया और तत्काल परिजन घटना स्थल पहुंचे पत्नी पति का हाल देखते ही बेहोश हो गयी। राहगीरो ने जंसा पुलिस को घटना की सूचना दी। सूचना पाते ही तत्काल जंसा पुलिस घटना स्थल पहुंची और घायल को १०८ एम्बुलेंस के माध्यम से परिजन सेवापुरी सामुदायिक स्वास्थ केन्द्र पर ले गये जहां डाक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया। मृतक रजनीश दो भाइयों में दूसरे नम्बर का था। मृतक को एक पुत्र उत्सव चार वर्ष का है। मृतक के पत्नी जूली का रो रो कर बुरा हाल है। मौत की सूचना लगते ही परिवार व गांव मे शोक की लहर दौड़ गई। जंसा पुलिस ने अज्ञात वाहन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आगे की काररवाही में जुटी है। जंसा पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे मे लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया।
वीरांगनाकी जयंतीके पूर्व संध्यापर दीपदान
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई की १८२वीं जयंती की पूर्व संध्या पर जागृति फाउण्डेशन एवं महारानी वीरांगना जन्मस्थान स्मारक समिति के संयुक्त तत्वावधान में भदैनी स्थित उनकी जन्मस्थली पर दीप  जलाकर उन्हें श्रद्घांजलि दी गयी। साथ ही जिला प्रशासन से मांग की गयी कि वह स्थली की कटी बिजली को तत्काल जुडवाये। देवी उपासिका साध्वी गीताम्बरा तीर्थ ने कहा कि वीरांगना की जन्मस्थली का बिजली कटना काफी दुर्भाग्यपूण्र है। कार्यक्रम का संयोजन जागृति फाउण्डेशन के महासचिव रामयश मिश्र ने किया। इस अवसर पर दिलीप कुमार पाण्डेय, संतोष कुमार मिश्र, अमित उपाध्याय सहित काफी संख्या क्षेत्रीय नागरिक उपस्थित थे।
किशोरीने जहर खाकर दी जान
मिर्जामुराद। अषाढ़ गांव में शनिवार की सुबह परिजनों की डांट से क्षुब्ध होकर सीमा १६ वर्ष नामक किशोरी ने जहर का सेवन कर ली। हालत बिगडऩे पर आनन-फानन में उसे शहर के निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। कानूनी काररवाई के झंझट में न पड़ शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया।
हादसेमें ग्राम पंचायत सदस्यकी मौत
मिर्जामुराद। गौर गांव निवासी वार्ड तीन के ग्राम पंचायत सदस्य इसराइल शाह ५५ वर्ष की शुक्रवार को तिउरी-महाराजगंज औराई के पास पिकअप पलटने से मौत हो गई। इसराइल अपने ससुराल हंडिया से पिकअप वाहन में सवार होकर मिर्जामुराद लौट रहा था। घर न पहुंचने पर परिजनों ने जब खोजबीन शुरू की तो शनिवार की सुबह बीएचयू ट्रामा सेंटर में शव मिला। घटना की जानकारी होते ही परिजनों में कोहराम मच बस्ती में मातम छा गया। मृतक का एक पुत्र हारून उर्फ सोनू अधिवक्ता है।
नि:शुल्क सुविधाओंसे वंचित है ग्रामवासी
कंदवा स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर गांव की महिलाएं इलाज के लिए जाती है तो वहां तैनात एनम तारा श्रीवास्तव उनके इलाज के नाम पर सुविधा शुल्क की मांग करती है न देने पर भगा देती है जबकि प्रसव का समय होता है तब भी वो गायब रहती है इस मामले से क्षुब्ध लोग उस एनम के खिलाफ मुख्य चिकित्साधिकारी से जांच करने की मांग की है और अगर मांग पुरी नही हुई तो स्वास्थ मंत्री के पास जा सकते है ग्रामवासी मोहन प्रभावती ब्रजलाल मंजु पटेल कल्लु अजय आदि लोग ने कहा कि काररवाई न होने पर आन्दोलन करेंगे।