Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


सेंसेक्स 268 अंक लुढ़का, निफ्टी 10918 पर बंद

नयी दिल्ली। भारतीय शेयर बाजार आज भारी गिरावट के साथ बंद हुए हैं। कारोबार के अंत में सेंसेक्स 267.64 अंक यानी 0.72 फीसदी गिरकर 37,060.37 पर और निफ्टी 98.30 अंक यानी 0.89 फीसदी गिरकर 10,918.70 के स्तर पर बंद हुआ।  आज के कारोबार में दिग्गज शेयरों के साथ स्मॉलकैप और मिडकैप शेयरों में गिरावट देखने को मिली है। बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 1.43 फीसदी और मिडकैप इंडेक्स 1.32 फीसदी गिरकर बंद हुआ है। बैंक और ऑटो शेयरों में गिरावट देखने को मिली। निफ्टी के ऑटो इंडेक्स में 0.54 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। बैंक निफ्टी इंडेक्स 267 अंक गिरकर 27715 के स्तर पर बंद हुआ है। आज मेटल, रियल्टी में गिरावट देखने को मिली। निफ्टी का मेटल इंडेक्स 3.01 फीसदी और रियल्टी इंडेक्स 2.31 फीसदी की गिरावट पर बंद हुए है।
सोनेके दाम 38800 रुपयेके पार, चांदी भी चमकी

नयी दिल्ली। वैश्विक स्तर पर दोनों कीमती धातुओं में रही गिरावट के बीच आभूषण निर्माताओं की ओर से ग्राहकी आने से दिल्ली सररफा बाजार में सोना बुधवार को 50 रुपए चमककर 38,820 रुपए प्रति दस ग्राम के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया। चांदी भी 30 रुपए चढ़कर 45,040 रुपए प्रति किलोग्राम के भाव बिकी। स्थानीय बाजार के उलट विदेशों में सोने-चांदी पर दबाव रहा। लंदन एवं न्यूयॉर्क से मिली जानकारी के अनुसार, सोना हाजिर 8.20 डॉलर टूटकर 1,498.50 डॉलर प्रति औंस पर आ गया। दिसंबर का अमेरिकी सोना वायदा भी 7.10 डॉलर की गिरावट में 1,508.60 डॉलर प्रति औंस बोला गया। बाजार विश्लेषकों ने बताया कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व की पिछली बैठक का विवरण जारी होने से पहले निवेशकों की सतकर्ता के कारण पीली धातु पर दबाव रहा। अमेरिकी केंद्रीय बैंक ने 2008 के बाद पहली बार पिछले महीने नीतिगत ब्याज दरों में कटौती की थी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में चांदी हाजिर भी 0.06 डॉलर गिरकर 17.04 डॉलर प्रति औंस पर आ गया।
आर्थिक मंदीकी चपेटमें आया पारलेका बिजनेस

 नयी दिल्ली। ऑटो सेक्टर से शुरू हुआ आर्थिक मंदी का रोग अब कई सेक्टर में फैल गया है। मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक कई सेक्टर्स से फैक्टरी बंद होने, प्रोडक्शन घटाने और कर्मचारियों की खबरें लगातार निकल कर सामने आ रही हैं। अब इस मंदी की चपेट में बिस्किट बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी पारले भी आ गई है। मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक, खपत में सुस्ती आने के कारण पारले प्रॉडक्ट्स (क्कड्डह्म्द्यद्ग क्कह्म्शस्रह्वष्ह्लह्य) 8,000-10,000 लोगों की छंटनी कर सकती है। अंग्रेजी के अखबार इकोनॉमिक टाइमस में छपी खबर में बताया गया है कि कंपनी 100 रुपए प्रति किलो या उससे कम कीमत वाले बिस्किट पर त्रस्ञ्ज घटाने की मांग की है। अगर सरकार ने हमारी मांग नहीं मानी तो हमें अपनी फैक्टरियों में काम करने वाले 8,000-10,000 लोगों को निकालना पड़ सकता है क्योंकि सेल्स घटने से कंपनी को भारी नुकसान हो रहा है। हालांकि, पारले जी बिस्किट आमतौर पर 5 रुपए या कम के पैक में बिकते हैं। आपको बता दें कि पारले प्रोडक्ट्स की सेल्स 10,000 करोड़ रुपए से ज्यादा होती है। कंपनी के कुल 10 प्लांट है। इसमें करीब 1 लाख कर्मचारी काम करते है। साथ ही, कंपनी 125 थर्ड पार्टी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट भी ऑपरेट करती हैं। कंपनी की सेल्स का आधा से ज्यादा हिस्सा ग्रामीण बाजारों से आता है।  मीडिया रिपोट्र्स में बताया गया है कि त्रस्ञ्ज लागू होने से पहले 100 रुपए प्रति किलो से कम कीमत वाले बिस्किट पर 12 फीसदी टैक्स लगता था। इसीलिए कंपनी उम्मीद लगा रही थी कि त्रस्ञ्ज में आने के बाद टैक्स की दरें 5 फीसदी तक आ सकती है लेकिन सरकार ने जब त्रस्ञ्ज लागू किया तो सभी बिस्किटों को 18 फीसदी स्लैब में डाला गया। ऐसे में कंपनियों की लागत बढ़ गई। लिहाजा दाम बढ़ाना ही एकमात्र जरिया रह गया। इससे कंपनी की बिक्री पर निगेटिव असर पड़ा।  पारले को भी इस दौरान 5 फीसदी दाम बढ़ाने पड़े है लेकिन सेल्स घट रही है। आपको बता दें कि पिछले महीने मार्केट रिसर्च कंपनी नीलसन ने देश के स्नरूष्टत्र सेक्टर को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है। इसमें उन्होंने इस साल के लिए ग्रोथ का अनुमान घटाकर 9-10 फीसदी कर दिया है। इससे पहले ग्राोथ का अनुमान 11-12 फीसदी था। रिपोर्ट में बताया गया है कि आर्थिक सुस्ती का असर फूड बिजनेस पर दिख रहा है। इस सेक्टर में सबसे बुरा हाल, नमकीन, बिस्किट, मसाले, साबुन और पैकेट वाली चाय पर है।
एक दिसंबर से हाईवे पर लागू होगा नया नियम
 
  नयी दिल्ली। टोल प्लाजा पर टोल टैक्स अदा करने के लिए वाहनों की लंबी कतार में फंसने से परेशान होने वालों के लिए अहम खबर है। दरअसल परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने सभी राज्यों को लिखा है कि वो रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस में जगह मुहैया कराए जिससे कि फास्टैग की बिक्री के लिए प्वाइंट बनाया जा सके। बता दें कि सरकार ने इस साल 1 दिसंबर से राष्ट्रीय राजमार्गों पर सभी टोल प्लाजा पर सिर्फ फास्टैग से टोल भुगतान स्वीकार करने का फैसला लिया है। 1 दिसंबर से सभी नेशनल हाईवे सभी लेन को फास्टैग लेन बनाया जाएगा। बिना फास्टैग वाले वाहनों से दोगुना टोल वसूला जाएगा। परिवहन विभाग के सर्कुलर में फास्टैग को सख्ती से अमल में लाने के निर्देश दिए गए हैं। फास्टैग से डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा मिलेगा साथ ही टोल पर बेवजह लगने वाले ट्रैफिक जाम से भी बचा जा सकेगा। फास्टैग एक रिचार्जेबल कार्ड है जिसमें रेडियो फ्रिक्वेंसी आईडेंटिफिकेशन (क्रस्नढ्ढष्ठ) तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। कार की विंडस्क्रीन पर लगने वाले इस कार्ड का इस्तेमाल टोल टैक्स भरने में होगा। वाहन के मालिक को यह फास्टैग प्रीपेड अकाउंट से लिंक कराना होगा और इसके जरिए टोल टैक्स का पेमेंट ऑटोमैटिकली हो जाएगा।
फास्टैग लगी कार जब टोल प्लाजा पर पहुंचेगी तो यहां उनके लिए एक खास लेन बनी होगी। इस लेन में लगी एक डिवाइस से संपर्क में आने के बाद टोल टैक्स खुद ही कट जाएगा और चालक बिना रुके टोल प्लाजा पार कर लेगा। यूजर्स को टोल ट्रांजेक्शन, लो बैलेंस और दूसरी चीजों का एसएमएस अलर्ट भी मिलेगा।
दिल्लीसे वियतनाम तक शुरू होगी सीधी उड़ान

नयी दिल्ली। अगर आप सस्ते में विदेश में हवाई यात्रा का प्लान बना रहे हैं तो आपके लिए एक अच्छी खबर है। वियतनाम की एयरलाइंस वियतजेट ने दिल्ली और वियतनाम के बीच सीधी उड़ान शुरु करने की घोषणा की है। बस यही नहीं, इस नई शुरुआत का जश्न मनाने के लिए एयरलाइंस अपने तीन 'गोल्डेन डेज' के दौरान सुपर सेविंग टिकटों की पेशकश कर रही है जिनकी कीमत मात्र 9 रुपए से शुरु हो रही है। गोल्डेन डेज एयरलाइंस का एक विशेष प्रोमोशन है जिसे 20 अगस्त से 22 अगस्त तक चलाया जा रहा है। वियतजेट के उपाध्यक्ष गुयेन थान सोन ने भारत और वियतनाम के बीच सीधी उड़ानें शुरु करने की घोषणा पर खुशी जताते हुए कहा कि भारत उनके लिए प्राथमिकता वाला देश है। उनके लगातार बढ़ते नेटवर्क में भारत के रूट का जुडऩा काफी अहमियत रखता है। नई दिल्ली से हनोई और हो चिन मिन सिटी तक सीधी उड़ान सेवा से दोनों देशों के बीच व्यापारिक और पर्यटन संबंधी अवसरों के बढऩे में मदद मिलेगी। इससे भारत दक्षिण पूर्व एशिया और पूर्वी एशिया के देशों के अलावा कई अन्य देशों से जुड़ेगा। इनमें इंडोनेशिया, सिंगापुर, मलेशिया, थाईलैंड, दक्षिण कोरिया, जापान, चीन आदि शामिल हैं।  उन्होंने बताया कि नई दिल्ली से छह दिसंबर से प्रत्येक सप्ताह सोमवार, बुधवार, शुक्रवार और रविवार को चार रिटर्न उड़ानें हो चिन मिन सिटी के लिए जाएंगी जबकि हनोई से नई दिल्ली रूट का परिचालन सात दिसंबर से हर हफ्ते मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को तीन रिटर्न फ्लाइट्स का परिचालन करेगा।  इसके अलावा वियतजेट एयर मोबाइल ऐप का इस्तेमाल करके भी 6 दिसंबर 2019 से 28 मार्च 2020 तक के टिकट बुक कर सकते हैं। हो चिन मिन सिटी से फ्लाइट 7 बजे शाम को उड़ान भरेगी और रात 10.50 मिनट पर दिल्ली पहुंचेगी। नई दिल्ली से रिटर्न फ्लाइट रात 11.50 मिनट पर उड़ान भरेगी और सुबह 6.10 मिनट पर हो चिन मिन सिटी पहुंचेगी।