Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


शेयर बाजारोंमें गिरावट, सेंसेक्स 72 अंक नीचे

मुम्बई। देश के शेयर बाजारों में सोमवार को गिरावट दर्ज की गई। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 72.50 अंकों की गिरावट के साथ 40,284.19 पर और निफ्टी 1.20 अंकों की मामूली गिरावट के साथ 11,894.25 पर बंद हुआ।
बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 74.39 अंकों की तेजी के साथ 40,431.08 पर खुला और 72.50 अंकों या 0.18 फीसदी की गिरावट के साथ 40,284.19 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 40,542.40 के ऊपरी स्तर और 40,221.97 के निचले स्तर को छुआ।
सेंसेक्स के 30 में से 14 शेयरों में तेजी रही। भारती एयरटेल (4.06 फीसदी), टाटा स्टील (4.01 फीसदी), सनफार्मा (2.28 फीसदी), पॉवरग्रिड (1.79 फीसदी) व इंडसइंड बैंक (1.13 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।
सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे- यस बैंक (4.08 फीसदी), बजाज ऑटो (1.69 फीसदी), हीरो मोटो कॉर्प (1.61 फीसदी), महिंद्रा एंड महिंद्रा (1.61 फीसदी) व एशियन पेंट (1.30 फीसदी)। बीएसई के मिडकैप व स्मॉलकैप सूचकांक में तेजी रही। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 64.54 अंकों की तेजी के साथ 14,837.53 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 36.21 अंकों की तेजी के साथ 13,362.61 पर बंद हुआ।
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 19.70 अंकों की तेजी के साथ 11,915.15 पर खुला और 1.20 अंकों या 0.01 फीसदी की मामूली गिरावट के साथ 11,894.25 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 11,946.20 के ऊपरी और 11,867.60 के निचले स्तर को छुआ।
बीएसई के 19 में से 11 सेक्टरों में तेजी रही। दूरसंचार (3.42 फीसदी), धातु (1.71 फीसदी), आधारभूत सामग्री (1.39 फीसदी), हेल्थकेयर (1.21 फीसदी) व यूटीलिटीज (0.54 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही। बीएसई के गिरावट वाले सेक्टरों में प्रमुख रहे- पूंजीगत वस्तुएं (0.68 फीसदी), ऑटो (0.55 फीसदी), ऊर्जा (0.45 फीसदी), उपभोक्ता गैर अनिवार्य वस्तुएं एवं सेवाएं (0.34 फीसदी) व तेज खपत उपभोक्ता वस्तुएं (0.33 फीसदी)। बीएसई में कारोबार का रुझान नकारात्मक रहा। कुल 1169 शेयरों में तेजी और 1397 में गिरावट रही, जबकि 205 शेयरों के भाव में कोई बदलाव नहीं हुआ।
290 रुपये तक गिरा सोना-चांदीका भाव

नयी दिल्ली। शादियों के सीजन में सोने-चांदी की कीमतों में गिरावट देखने को मिल रही है। सोमवार को सराफा बाजार में इनकी कीमतों में 290 रुपये तक की कमी देखने को मिली। इससे जहां लोगों को राहत मिली है, वहीं कारोबारियों को मांग अच्छी होने से इन दोनों धातुओं की बिक्री में इजाफा देखने को मिला है। दिल्ली सराफा बाजार में अगर सोने की कीमतों की बात करें तो फिर इसमें 85 रुपये की गिरावट देखने को मिली और भाव 38775 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गया। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कमजोर कीमतों के चलते घरेलू बाजार में भी असर देखने को मिला। शनिवार को सोने की कीमत 38,860 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुई थी। चांदी का भाव 290 रुपये गिरकर 45,250 रुपये प्रति किलोग्राम हो गया है, जो पिछले कारोबारी दिवस पर 45,540 रुपये प्रति किलोग्राम पर था। औद्योगिक इकाइयों और सिक्का कारोबारियों की लिवाली कम होने से चांदी के कीमत में यह गिरावट दर्ज की गई है। एचडीएफसी सिक्युरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक (जिंस) तपन पटेल ने कहा, अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने के भाव में आई कमजोरी के कारण दिल्ली में 24 कैरेट सोने के हाजिर मूल्य में 85 रुपये की गिरावट आयी। दिन के कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया 7 पैसे कमजोर रहा। पटेल ने बताया कि यूएस-चाइना ट्रेड डील के सकारात्मक रुख के चलते निवेशकों में उत्साह आने के कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सोने की कीमत 1,470 डॉलर प्रति औंस से नीचे ट्रेंड कर रही है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने का भाव 1464 डॉलर प्रति औंस रहा, जबकि चांदी का भाव 16.88 डॉलर प्रति औंस रहा। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में सोने का दिसंबर आपूर्ति का अनुबंध 82 रुपये या 0.22 फीसदी के नुकसान से 37,912 रुपये प्रति दस ग्राम रह गया। इसमें 1,557 लॉट का कारोबार हुआ।
सरकारने सोनेपर माफी योजना लानेसे किया इनकार
नयी दिल्ली। वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को लोकसभा में एक सवाल के जवाब में कहा कि सरकार सोने के लिए कोई माफी योजना लाने के प्रस्ताव पर विचार नहीं कर रही है। वित्त राज्य मंत्री के इस उत्तर के बाद उन रिपोर्ट का खंडन हो गया है, जिसमें कहा जा रहा था कि सरकार सोने के लिए भी एक माफी योजना लाने जा रही है।
आपको बता दें कि इनकम टैक्स विभाग ने देश में एक व्यक्ति के पास सोना रखने की सीमा निर्धारित की है। इस सीमा से अधिक सोने को कालाधन माना जाएगा। इनकम टैक्स विभाग ने विवाहित महिला के लिए 500 ग्राम की आभूषण, अविवाहित महिला के लिए 250 ग्राम गोल्ड ज्वैलरी और पुरुषों के लिए 100 ग्राम आभूषण की सीमा तय की है। पूर्व में आई मीडियो रिपोर्ट में कहा गया था कि सरकार एक माफी योजना पर विचार कर रही है, जो व्यक्तियों और इकाईयों को अपने बेहिसाबी सोने की घोषणा करने की अनुमति देगी और उन पर इसके लिए कोई कानूनी कार्रवाई भी नहीं होगी। इस माफी योजना के तहत कालेधन से सोना खरीदने वाले लोगों को इसे सफेद बनाने का एक मौका दिया जाएगा। इसके तहत वह अपने स्वर्ण भंडार की घोषणा और उस पर कर चुकाकर बच सकते हैं। व्यक्ति द्वारा बिना बिल के खरीदे गए सोने के कुल भंडार को घोषित करना होगा और उसके संपूर्ण मूल्य पर कर का भुगतान करना होगा। ऐसा अनुमान है कि भारतीयों के पास 20,000 टन सोने का भंडार है। हालांकि, अवैध आयात और पैतृक संपत्ति को मिलाकर इसका भंडार 25,000 से 30,000 टन तक है। कालेधन को खत्म करने के लिए सरकार ने 8 नवंबर, 2016 को पुराने 500 और 1000 रुपए के नोटों को चलन से बाहर करने की घोषणा की थी।