Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


नये सर्जिकल स्ट्राइककी तैयारी

नयी दिल्ली (एजेंसी)।  जम्मू-कश्मीर में बॉर्डर पर एक बार फिर पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ की कोशिशों में बढ़ोतरी हो रही है। इसको देखते हुए भारतीय सेना नये सर्जिकल स्ट्राइककी तैयारी कर रही है। रविवार को ही बॉर्डर के पास सुंदरबनी में पाकिस्तान  की बॉर्डर एक्शन टीम ने घात लगाकर भारतीय जवानों पर हमला किया।  इस हमले में सेना के तीन जवान शहीद हुए हैं। अब खबर है कि इसी सुंदरबनी के क्षेत्र में कई आतंकी लॉन्चिंग पैड बनाकर बैठे हैं। ये रिपोर्ट जवानों पर किए गए हमले की बाद आयी है। रिपोर्ट के मुताबिक, पीओके में तीन जगहों पर भारी संख्या में आतंकी मौजूद हैं और इन्हें पाकिस्तान की सेना का पूरा समर्थन हासिल है।रिपोर्ट के अनुसार, इन तीनों जगह पर पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और सेना ने करीब 60-70 आतंकियों को इक_ा किया हुआ है। ये सभी आतंकी लश्कर-ए-तोयबा और जैश-ए-मोहम्मद के बताये जा रहे हैं। ये लॉन्चिंग पैड भारत के तंगधार और उरी सेक्टर के ठीक सामने ही हैं। अब पाकिस्तान की बैट टीम की कोशिश है कि इन्हीं इलाकों में मुजाहिद्दीन बटालियन को तैनात किया जाये ताकि भारतीय जवानों पर हमले तेज हो सकें। आपको बता दें कि 21 अक्तूबर को सुंदरबनी में पाकिस्तान बैट  टीम के करीब 6 सदस्यों ने भारतीय जवानों पर हमला किया था। इसमें 3 जवान शहीद हो गये थे।  भारतीय सेना ने इससे पहले भी बॉर्डर पार स्थित लॉन्चिंग पैड को खत्म किया हुआ है। उरी हमले के बाद ही सेना ने 28-29 सितंबर, 2016 की रात पीओके में घुसकर आतंकी लॉन्च पैड को तबाह कर दिया था। सेना द्वारा की गयी इस सर्जिकल स्ट्राइक से पाकिस्तान पूरी तरह बौखला गया था। ऐसे में फिर ये सवाल उठ रहे हैं कि क्या इन आतंकियों का खात्मा करने के लिए भारतीय जवान फिर सीमा पार जा सर्जिकल स्ट्राइक कर सकते हैं। बैट  का पूरा नाम बॉर्डर एक्शन टीम है। इसके बारे में सबसे पहले पांच और छह अगस्त 2013 की दरमियानी रात को पता लगा था। तब इस टीम ने एलओसी पर पेट्रोलिंग कर रही भारतीय सेना की टुकड़ी को निशाना बनाया था। दरअसल, यह पाकिस्तान की स्पेशल फोर्स से लिए गए सैनिकों का एक ग्रुप है। हैरानी की बात ये है कि बैट में सैनिकों जैसी ट्रेनिंग पाए आतंकी भी हैं। ये एलओसी में 1 से 3 किलोमीटर तक अंदर घुसकर हमला करने के लिए तैयार किया गया है। बैट को स्पेशल सर्विस ग्रुप यानी एसएसजी ने तैयार किया है। यह पूरी प्लानिंग के साथ अटैक करती है। ये टीम पहले खुफिया तौर पर ऑपरेशनों को अंजाम देती थी लेकिन बाद में मीडिया की वजह से खबरों में रहने लगी।