Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


नवीनतम समाचार » पलटवारसे सहमें कंगारू

पलटवारसे सहमें कंगारू

भारत पहली पारी २५० रन
आस्ट्रेलिया पहली पारी ७-१९१ रन

अश्विनकी अगुवाईमें गेंदबाजोंने करायी भारतकी वापसी, मेजबानोंकी लाज बचानेमें जुटे हेड
एडीलेड (एजेन्सियां)। अनुभवी आफ स्पिनर रविचन्द्रन अश्विनने आस्ट्रेलियाई शीर्षक्रमको सस्तेमें समेट दिया तो तेज गेंदबाजोंने रनगतिपर अंकुश लगाकर पहले क्रिकेट टेस्टके दूसरे दिन शुक्रवारको भारतको वापसी दिला दी। आखिरी सत्रमें ट्रेविस हेड (नाबाद ६१) और पैट कमिंस (१०) ने ५० रनकी साझेदारी कर मेजबान टीमको राहत देनेका प्रयास किया लेकिन आखिरमें कमिंसके आउट होने से भारतने एक बार फिर दबाव बना लिया। दिन का खेल समाप्त होने तक आस्ट्रेलियाने ८८ ओवरमें सात विकेट पर १९१ रन बना लिए थे। मिशेल स्टार्क आठ रन बनाकर हेडके साथ क्रीज पर मौजूद है। आस्ट्रेलिया भारत के पहली पारीके स्कोर २५० रनसे अभी भी ५९ रन पीछे है और उसके तीन विकेट शेष है। भारत अपने कल के स्कोरमें कोई इजाफा नहीं कर सका और आज हेजलवुडने पहली ही गेंद पर शमी (छह) को आउट कर भारत की पारी २५० रनपर समेट दी। हेजलवुडने तीन विकेट चटकाये तो स्टार्क, कमिन्स और लियोनके हिस्से दो-दो विकेट आया। आस्ट्रेलियाई पारी की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही। दिन के पहले ही ओवरमें इशांत शर्माने आरोन फिंचको बोल्ड कर दिया। फिंच एक बड़ा शाट खेलने गये लेकिन गेंद बल्ले और पैडके बीचसे जगह बनाती हुई विकेटोंसे जा टकराई। इसके बाद मार्कस हैरिस और उस्मान ख्वाजाने आस्ट्रेलियाई पारीको संभालनेका काम किया। ख्वाजा अपने अंदाजमें खेल रहे थे और अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे हैरिस भी आकर्षक लग रहे थे। लग रहा था कि पहले ओवरमें मिले झटकेसे आस्ट्रेलिया उबर चुका है। दोनों धीरे-धीरे अद्र्धशतकीय साझेदारी की ओर बढ़ रहे थे तभी अश्विनकी एक गेंद हैरिसके बल्लेसे लगकर पैड से टकराई और सिली पाइंटपर खड़े मुरली विजयने उनका आसान सा कैच लपक लिया। वह २६ रन बनाकर आउट हुए। इसके बाद अश्विनका अगला शिकार बने शान मार्श। स्मिथ और वार्नरकी गैरमौजूदगीमें मार्श टीम के सबसे अनुभवी बल्लेबाज हैं लेकिन जिस तरहका शाट खेलकर वह आउट हुए उसे गैर-जिम्मेदाराना ही कहा जायेगा। लंचके बाद अश्विनने आफ स्टंपके बाहर गेंद फेंकी। गेंद फुल थी और विकेटों से बहुत दूर। मार्शने बड़ा ड्राइव खेलनेका प्रयास किया। नतीजा गेंद बैटका अंदरूनी किनारा चूमते हुए लेग स्टंपसे जा टकराई। अश्विन यहीं नहीं रुके उम्होंने मेजबान टीमको बड़ा झटका उस्मान ख्वाजाको पवेलियन भेज दे दिया। अश्विनकी गेंद टप्पा पडऩेके बाद बाहरकी ओर निकली और ख्वाजाके अगुठेसे लगते हुए विकेटके पीछे ऋषभ पंतके दस्तानोंमें समा गयी। अंपायर कुमार धर्मसेनाने उन्हें नाट आउट दिया लेकिन डीआरएसमें तीसरे अंपायरने ख्वाजा को आउट करार दिया। ख्वाजा ने १२५ गेंदोंका सामना किया और २८ रन बनाये। ख्वाजा अश्विनके १७९वें बाएं हाथके शिकार रहे टेस्ट क्रिकेटमें सिर्फ मुरलीधरनने उनसे ज्यादा (१९१) बाएं हाथके बल्लेबाजोंको आउट किया है। ख्वाजाके आउट होनेके बाद ट्रेविस हेड और पीटर हैंड्सकाम्बने संकटमें घिर चुकी आस्ट्रेलियाको यहांसे पार लगाने की कोशिश की। दोनोंने अभी मिलकर ३३ रन ही जोड़े थे कि जसप्रीत बुमराह ने हैंड्सकॉम्ब (३४) को विकेट कीपर ऋषभ पंतके हाथों कैच आउट करा दिनका अपना पहला शिकार किया। आस्ट्रेलिया टीमका संकट बढ़ चुका था और अब क्रीजपर कप्तान टिम पेन थे लेकिन विराटने दूसरे छोरसे गेंद इशांत शर्माको सौंप दी। फिंचको बोल्ड करने वाले इशांतने कप्तान पेन (पांच) को भी कोई मौका नहीं दिया और उन्हें पंत के हाथों कैच कराकर वापस पवेलियन भेज दिया। १२७ के स्कोरपर आस्ट्रेलियाई टीम अपने छह विकेट गंवा चुकी थी। पैट कमिंस (१०) ने ट्रैविस हेडके साथ मिलकर ५० रनकी साझेदारी कर ली। वह धीरज दिखाते हुए ट्रैविस हेडका अच्छा साथ निभाते दिख रहे थे लेकिन बुमराहने उन्हें पगबाधा कर दिया। हेडने अद्र्धशतक पूरा कर आस्ट्रेलियाई खेमेको थोड़ी राहत जरूर दी और मिशेल स्टार्कके साथ मिलकर दूसरे दिन उसे कोई और नुकसान नहीं होने दिया। अश्विनने ३३ ओवरमें ५० रन देकर तीन विकेट लिए। बुमराहने ३४ और इशांत शर्मा ने ३१ रन देकर दो-दो विकेट चटकाए।
स्कोर बोर्ड
भारत पहली पारी-केएल राहुल का आरोन फिंच बो हेजलवुड २, मुरली विजय का पेन बो स्टार्क ११, चेतेश्वर पुजारा रन आउट १२३, विराट कोहली का उस्मान ख्वाजा बो कमिन्स ३, अजिक्य रहाणे का हैड्सकम्ब बो हेजलवुड १३, रोहित शर्मा का हैरिस बो नाथन लियोन ३७, ऋषभ पंत का पेन बो नाथन लियोन २५, रविचन्द्रन अश्विन का हैड्सकम्ब बो कमिन्स २५, ईशान्त शर्मा बो स्टार्क ४, मोहम्मद शमी का टिम पेन बो हेजलुवड ६, जसप्रीत बुमराह अजेय ०, अतिरिक्त-१, कुल-८८ ओवर में २५० रन  आल आउट,  विकेट गिरे-१-३, २-१५, ३-१९, ४-४१, ५-८६, ६-१२७, ७-१८९, ८-२१०, ९-२५०, गेंदबाजी-मिशेल स्टार्क १९-४-६३-२, हेजलवुड २०-३-५२-३, पी कमिन्स १९-३-४९-२, नाथन लियोन २८-२-८३-२, टिम हेड २-१-२-०।
आस्ट्रेलिया पहली पारी-आरोन फिंच बो इशान्त शर्मा ०, हैरिस का  विजय बो अश्विन २६, उस्मान ख्वाजा का ऋषभ पंत बो अश्विन २८, एस मार्श बो अश्विन २, हैड्सकाम्ब का  पंत बो बुमराह ३४, ट्रेविस हेड खेल रहे ६१, पेन का का पंत बो इशान्त शर्मा ५, कमिन्स पगबाधा बुमराह १०, मिशेल स्टार्क खेल रहे ८, अतिरिक्त-१७, कुल-८८ ओवर में सात विकेट पर १९१ रन, विकेट गिरे-१-०, २-४५, ३-५९, ४-८७, ५-१२०, ६-१२७, ७-१७७, गेंदबाजी-इशान्त शर्मा १५-६-३१-२, जसप्रीत बुमराह २०-९-३४-२, मोहम्मद शमी १६-६-५१-०, रविचन्द्रन अश्विन३३-९-५०-३, मुरली विजय ४-१-१०-०।
बराबरीपर है मुकाबला
रविचन्द्रन अश्विन
एडीलेड (एजेन्सियां)। अपनी शानदार गेंदबाजी के दम पर भारत को पहले टेस्ट में वापसी दिलाने के बावजूद  रविचंद्रन अश्विन का मानना है कि पहले टेस्ट मैच में मुकाबला बराबरी पर है और हर रन काफी महत्वपूर्ण होगा। आस्ट्रेलिया के सात विकेट १९१ रन पर गिरा मेजबानों को सघर्ष करने पर मजबूर करने के बाद अश्विन ने कहा कि हमें लगता है कि हमने उन्हें कड़ी चुनौती दी है और दोनों छोर से उन पर दबाव डाला। अश्विन ने कहा हम तेज गेंदबाजी आक्रमण और स्पिन गेंदबाजी आक्रमण को अलग-अलग नजरिये से नहीं देखते. हम इसे पूरी गेंदबाजी इकाई की तरह देखते है क्योंकि एक के बिना दूसरे का अस्तित्व नहीं। आस्ट्रेलियाई टीम ५९ रन से पिछड़ रही है और उसके तीन विकेट बाकी है लेकिन अश्विन ने कहा टेस्ट मैच अभी बराबरी पर है। मैंने चाय से पहले और बाद में लगतार २२ ओवर गेंदबाजी की ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि हम उन्हें ज्यादा रन न बनाने दे। मैं अब तक इसे बराबरी का मैच मान रहा हूं। आगे जो भी लय पकड़ेगा मैच में उसके जीतने का मौका ज्यादा होगा। यहां से हर रन काफी अहम होने वाला है। पिच के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा मुझे लगा कि गेंद कल रूक कर आ रही थी। आज निश्चित तौर पर पिच थोड़ी धीमी हुई है। कल जब हम बल्लेबाजी कर रहे थे तब पिच इतनी धीमी नहीं थी।


आस्ट्रेलिया के बायें हाथ के बल्लेबाजों खासकर शान मार्श को गेंदबाजी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा मैंने कई और बायें हाथ के बल्लेबाजों को ज्यादा बार आउट किया है। वह शानदार खिलाड़ी है। यह पांचवां मौका है जब अश्विन ने शान मार्श का विकेट लिया। उन्होंने इस मैच में भी जो तीन सफलता हासिल की वे तीनों बायें हाथ के बल्लेबाज हैं।
भारतकी निगाह अन्तिम आठपर
विश्वकप हाकी
कनाडासे मुकाबला आज
भुवनेश्वर (एजेन्सियां)। शानदार शुरुआत के बाद मेजबान भारत पूल सी के आखिरी मैच में शनिवार को कनाडा को हराकर पुरुष हाकी विश्वकप के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने उतरेगा। दुनिया की पांचवें नंबर की टीम भारत पूल सी में चार अंक लेकर शीर्ष पर है। वहीं ओलिंपिक रजत पदक विजेता बेल्जियम के भी चार अंक हैं लेकिन भारत का गोल औसत बेहतर है। भारत का गोल औसत प्लस पांच है जबकि बेल्जियम का प्लस एक है। कनाडा और दक्षिणथ अफ्रीका के दो मैचों में एक-एक अंक हैं लेकिन बेहतर गोल औसत के आधार पर कनाडा तीसरे स्थान पर है। भारत ने पहले मैच में दक्षिण अफ्रीका को ५-० से हराया और बेल्जियम से २-२ से ड्रा खेला। कनाडा को बेल्जियम ने २-१ से हराया और कनाडा ने द7िण अफ्रीका से १-१ से ड्रा खेला। पूल में अभी भी सभी टीमों के लिए दरवाजे खुले हैं लिहाजा मेजबान टीम कोई कोताही नहीं बरतते हुए जीत दर्ज करके सीधे अंतिम आठ में पहुंचना चाहेगी। दूसरे और तीसरे स्थान की टीमें दूसरे पूल की दूसरी तीसरी टीमों से क्रासओवर खेलेंगी जिससे क्वार्टर फाइनल के बाकी चार स्थान तय होंगे। रेकार्ड और फार्म को देखते हुए भारत का पलड़ा भारी लग रहा है लेकिन गुरुवार को दुनिया की २०वें नंबर की टीम फ्रांस ने ओलिंपिक चैंपियन अर्जेंटीना को हरा दिया लिहाजा आधुनिक हाकी में कुछ भी संभव है। भारतीय टीम रियो ओलिंपिक २०१६ का पूल मैच नहीं भूली होगी जिसमें कनाडा ने पिछडऩे के बाद वापसी करते हुए ड्रा खेला था। इसके अलावा लंदन में पिछले साल हाकी वल्र्ड लीग सेमीफाइनल में कनाडा ने भारत को ३-२ से हराकर पांचवां स्थान हासिल किया था। कनाडा के खिलाफ भारत ने २०१३ से अब तक पांच मैच खेले, तीन जीते, एक हारा और एक ड्रा रहा। कनाडा ने वैसे पहले मैच में बेल्जियम को जीत के लिए नाकों चने चबवा दिये थे। भारतीय फारवर्ड पंक्ति मनदीप सिंह, सिमरनजीत सिंह, आकाशदीप सिंह और ललित उपाध्याय पर अच्छे प्रदर्शन का दबाव होगा। कप्तान मनप्रीत सिंह की अगुवाई में भारतीय मिडफील्ड ने अभी तक अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन डिफेंस को अधिक चौकस होने की जरूरत है। आखिरी क्षणों में गोल गंवाने की आदत से भी भारत को पार पाना होगा। बेल्जियम के खिलाफ आखिरी चार मिनट में गोल गंवाने के कारण भारत को ड्रा खेलने पर मजबूर होना पड़ा। चोट के बाद वापसी करने वाले पीआर श्रीजेश पुराने फार्म में नहीं लग रहे हैं। भारतीय कोच हरेंद्र सिंह ने कहा पिछली नाकामियां सबक होती हैं, जिससे हम वर्तमान को बेहतर बनाते हैं। पूल सी के एक अन्य मैच में बेल्जियम का सामना दक्षिण अफ्रीका से होगा।