Tel: 0542 - 2393981-87 | Mail: ajvaranasi@gmail.com


गठबंधनसेे जम्मू-कश्मीरमें लगी आग-राहुल

नयी दिल्ली(एजेंसी)।बीजेपी ने जम्मू कश्मीर में पीडीपी के साथ मिलकर बनाई लगभग तीन साल पुरानी गठबंधन सरकार से मंगलवार को समर्थन वापस ले लिया। समर्थन वापस लेने के बाद दोनों ही पार्टियां एक दूसरे पर आरोप लगा रहीं हैं। इसी बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी और पीडीपी पर तीखा हमला बोला है। राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि, पीडीपी और बीजेपी के अवसरवादी गठबंधन जम्मू कश्मीर में आग लगा दी है। जिसमें सैंकड़ों निर्दोष लोग और बहादुर जवान मारे गए हैं। मंगलवार को बीजेपी के समर्थन वापस लेने फैसले पर राहुल गांधी ने कहा कि, पीडीपी और बीजेपी के अवसरवादी गठबंधन जम्मू कश्मीर में आग लगा दी है। जिसमें सैंकड़ों निर्दोष लोग और बहादुर जवान मारे गए हैं। इस गठबंधन से यूपीए सरकार की सालों की कड़ी मेहनत बेकार कर दी है। राज्य में बार-बार लग रहा राज्यपाल शासन बर्बाद कर रहा है। अक्षमता, अहंकार और घृणा हमेशा विफल होती है। आपको बता दे कि, मंगलवार को बीजेपी महासचिव ने प्रेस कॉफ्रेंस कर पीडीपी के साथ गठबंधन तोडऩे का ऐलान कर दिया। पीडीपी - बीजेपी गठबंधन के टूटने के बाद जम्मू-कश्मीर में पिछले 40 साल में आठवीं बार राज्यपाल शासन लागू होने जा रहा है। बीजेपी ने पीडीपी पर आरोप लगाया था कि, राज्य में बढ़ते कट्टरपंथ और आतंकवाद के चलते सरकार में बने रहना मुश्किल हो गया था। राज्यपाल को अपना इस्तीफा भेजने के बाद जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि भाजपा के साथ उन्होंने जम्मू कश्मीर को लोगों के मुश्किल से निकालने के लिए हाथ मिलाया था क्योंकि भाजपा बड़ी ताकत है। हमारे गठबंधन का मकसद कश्मीर में लोगों के साथ बातचीत और पाकिस्तान के साथ अच्छा रिश्ता रहे। उन्होंने कहा कि हमने धारा 370 को बचाया और सूबे के बच्चों से काफी मुकदमें भी हटवाए, ये ही हमारा एजेंडा था और हम उसमें कामयाब रहे।
----------------------------
दाती महाराजने किया सरेंडर, कड़ी पूछताछ
नयी दिल्ली(एजेंसी)। अपने आश्रम की शिष्या से दुष्कर्म करने का आरोप झेल रहे शनिधाम संस्थान के संस्थापक दाती महाराज उर्फ मदनलाल ने दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच में समर्पण कर दिया है। कोर्ट की ओर से उन्हें सरेंडर करने का कल आखिरी दिन था। हालांकि वह न तो कल पुलिस के सामने पेश हुए और ना ही उन्होंने कोर्ट में सरेंडर किया। हालांकि दाती महाराज के वकील ने क्राइम ब्रांच को  सूचित किया था कि उन्हें बुधवार तक का वक्त दिया गया है। अगर दाती मदन समर्पण नहीं करते तो कोर्ट से उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी होना लाजिमी था। क्राइम ब्रांच के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक दाती मदन और उसके तीनों साथी आरोपी भाई अनिल, अशोक और अर्जुन ने पहले भी 2 बार सामने आकर जांच में सहयोग करने की बात कही थी। लेकिन दोनों बार वे पेश नहीं हुए। दाती मदन और उनके तीनों साथी आरोपी भाईयों की धरपकड़ के लिए क्राइम ब्रांच की 15 सदस्यीय टीम ने रविवार को दिल्ली और राजस्थान में छापेमारी की और उनके आश्रम से अहम सबूत भी जुटाए। एसीपी रितेश कुमार के नेतृत्व में राजस्थान के पाली आश्रम गई थी। लेकिन, दाती मदन उससे पहले ही अपने आरोपी भाइयों के साथ रफू चक्कर हो गया था।